लोकसंघर्ष यह है !!!

शनिवार, 13 जून 2009

प्रिय मनोज द्विवेदी जी ,
लोकसंघर्ष हमारी पत्रिका का नाम है । यह पत्रिका त्रैमासिक उत्तर प्रदेश के जनपद बाराबंकी से प्रकाशित होती है । पत्रिका के सम्बन्ध में आए हुए ईमेल को देखने के लिए हम लोगो ने इन्टरनेट लगवाया और फिर अचानक एक दिन क्रिएट अ ब्लॉग पर माउस पहुँच गया और एक ब्लॉग लोकसंघर्ष के नाम से हम लोगो ने बना डाला और फिर कुछ दिन बाद कवितायेँ, लेख व लोकसंघर्ष पत्रिका में प्रकाशित होने वाली सामग्री को भी पोस्ट के रूप में लोकसंघर्ष ब्लॉग पर प्रकाशित करना शुरू कर दिया । शुरुवाती दौर में उड़न तश्तरी ,श्यामल सुमन , डॉक्टर कुमारेन्द्र सिंह सेंगर ,परमजीत बाली , अलबेला खत्री .कॉम आदि बहुत सारे टिप्पणीकारों ने अत्याधिक उत्साह बढाया और फिर इन लोगो की टिप्पणीयां आनी बंद हो गई , उसका मुख्य कारण लोकसंघर्ष ब्लॉग पर प्रकाशित आलेख हो सकते है । डॉक्टर रूपेश श्रीवास्तव , काशिफ आरिफ , कनिष्का कश्यप ने टेलीफोन से भी उत्साह बढाया । लोकसंघर्ष में डॉक्टर व अधिवक्ता मुख्य रूप से जुड़े हुए है । लोकसंघर्ष पत्रिका व लोकसंघर्ष ब्लॉग जनसंघर्ष को समर्पित है । हम लोग मुख्यता किसान समस्याओ के समाधान के लिए संघर्षरत रहते है । हम लोगो के हिस्से में कुछ बड़ी सफलताएं भी आई है जिसमें प्रमुख है किसानो की उपजाऊ जमीन का राज्य सरकार द्वारा अधिग्रहण किया गया था जिसके ख़िलाफ़ तीन साल लगातार हम लोगो ने आन्दोलन चलाकर किसानो की जमीन का अधिग्रहण नही होने दिया । बाराबंकी सुगर फैक्ट्री जब बंद हुई तब गन्ना किसानो का 3 कारोंड़ 66 लाख बकाया था जिसको आन्दोलन के जरिये हम लोगो ने किसानो का भुगतान कराया । समय -समय पर विभिन्न समस्याओ पर हम लोग आन्दोलन चला कर समस्याओ के समाधान के लिए प्रयासरत रहते है । अमिताभ बच्चन व अमर सिंह ने हमारे जनपद के ही दौलतपुर गाव में फ्रोड करके जमीन हासिल की थी लेकिन जनता लिखा पढ़ी के कारण इन लोगो का फ्रोड हमारे जनपद में नही चल पाया है । हमारे जनपद में पुलिस द्वारा एनकाउन्टर नही होते है क्योंकि 99.9 % एनकाउन्टर फर्जी होते है कई बार एनकाउन्टर करने वाले पुलिस वाले जेल जा चुके है । किसान कर्जो व उत्पीडन के मामलो में जिला अधिकारी से लेकर लेखपाल तक निलंबित हो चुके है ।
हम लोगो के समूह के लोग कोई एन॰ज़ी॰ओ नही चलाते है । सरकार या किसी देशी-विदेशी संगठन से कोई मद्दद नही लेते है । जनता की समस्याओ का समाधान जनसंघर्ष से ही हो सकता है । हम लोग शब्दों के सौदागर नही है । जो कुछ भी है सीधा -सीधा है । ब्लॉग और टिप्पणी या इस सम्बन्ध में हम लोगो की जानकारी लगभग शून्य सी है ।हम लोग अपनी बात को ज्यादा से ज्यादा लोगो के सामने रखना चाहते है इसीलिए लोकसंघर्ष पत्रिका अव्यवसायिक तरीके से प्रकाशित कर रहे है ।हमारी पत्रिका में एडमिरल विष्णु भागवत , श्री सुभाष गताडे ,अनिल चमडिया ,मुद्राराक्षस ,निलोफर भागवत ,राकेश ,शकील सिद्दकी , सलीम अख्तर सिद्दकी ,डॉक्टर रूप रेखा वर्मा ,एस.आर दारापुरी ,तारिख खान ,अनिल राजिमवाले ,सीमा आजाद, महंत विनयदास तथा अंतर्राष्ट्रीय सुप्रसिद्ध लेखक नोम चोमेस्की के लेख प्रकाशित हो चुके है और भविष्य में भी प्रकाशित होते रहेंगे ।

श्रीमान जी आप के बहुमूल्य सुझावों की मुझे हमेशा आवश्यकता रहेगी । मुझे आशा ही नही पूर्ण विश्वाश है की आप लोगो का मार्गदर्शन मुझे प्राप्त होता रहेगा ।

सादर,
रणधीर सिंह 'सुमन'
प्रबंध संपादक
लोकसंघर्ष पत्रिका

3 टिप्पणियाँ:

मनोज द्विवेदी ने कहा…

Apki itani badi post ka andesha nahi tha. Khair' sanka ka samadhan ho gaya isse badi bat kya ho sakti hai mere liye..suman ji apke pyas ko meri badhai hai. ap apne kam me lage rahiye..Lekin ye patrika ka AVYAVASAYIK PRAKASHAN yah batata hai ki aap vastav me tan man dhan se janta ki sewa me lage hain..chaliye hum jaise noukaripesha logon se koi sahyog ho sakega to jarur bataiya. Do roti kam khayenge lekin apke sangharsh me do pal ka sath jarur dene ki koshish karenge..
ANT ME APKO MERI DHER SARI SUBHKAMNAYE............

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

सुमन भाई,लोकसंघर्ष का ये परिचय बेहद ऊर्जा देने वाला है आशा है ये एक परंपरा कायम करने का माद्दा रखने वाली सोच के रूप में स्थापित होगी।
शुभेच्छाएं
जय जय भड़ास

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

लोकसंघर्ष अपने मुहीम में सफल हो कि शुभकामना
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP