क्या संघ का राष्ट्रवाद अंग्रेजों का परस्त था?

बुधवार, 24 जून 2009

लोक संघर्ष के संघर्षकर्ता माननीय सुमन जी एक टिप्पडी में कहा है की संघ का तथाकथित राष्ट्रवाद अंग्रेजों की मदद करने वाला थावाह कितना महान अध्ययन है महाशय का ये तो इन्होने रिसर्च करने का नया टोपिक दे दियाअब तक इस ऐतिहासिक खोज से महरूम भारतीयों को सुमन जी महाराज का सुक्रिया अदा करना चाहिएसंघ और बीजेपी के दार्शनिकों को सुमन जी के ज्ञान से कुछ नया सीखना चाहिए। क्यूंकि शायद उन्हें भी ये बात नही पता होगी की वे जिस पार्टी या संगठन का झंडा बुलंद करने में लगे हैंवाह अंततः एक अंग्रेज परस्त संगठन हैमात्र विदेशी मूल की होने पर सोनिया गाँधी का पुरजोर विरोध करने वाली पार्टी का अतीत सुमन जी ने सामने किया हैइसका मतलब यह हुआ की इनको विरोध करने का कोई ओचित्य ही नही था? अरे भाई सुमन जी के मुताबिक जो पार्टी ख़ुद अंग्रेजों की मददगार रही हो वाह कैसे किसी विदेशी का विरोध कर सकती हैकहते हैं की ज्ञान की कोई सीमा नही होती ..लेकिन जिसने भी अपने ज्ञान की सीमा को समझ लिया वाह पुरे कांफिडेंस के साथ सुमन जी की तरह टिप्पडी दे सकता है की अरे फलां देशभक्त तो रात में अंग्रेजों के तलवे चाटता था? मैं सुमन जी से निवेदन करता हूँ की सुमन जी इस बात के प्रमाण को सार्वजनिक करें की कैसे संघ का तथाकथित राष्ट्रवाद अंग्रेजों की मदद कर रहा था! अगर उनके पास इस बात का प्रमाण नही है तो अब उन्हें सफाई का मौका दिए बिना हकीकत से रूबरू कराने की जिम्मेदारी किसकी? क्या संघ और बीजेपी की तरफ़ से ही इन्हे जबाब मिलना चाहिए..चाहे कुछ भी हो लेकिन इन्हे ये बताना चाहिए की किस आधार पर और किस अध्ययन में इन्होने इस तथ्य को पाया ..हमें सुमन जी के तथ्यों का इंतजार है...

2 टिप्पणियाँ:

Suman ने कहा…

sri manoj sahab,
maine tathyo ko ek jagah ikattha karne k liye keh diya hai sabhi tathy ikathha hone k baad ek nai post samarpit kardi jayegi .


sadar,
suman

vjghj ने कहा…

यानि पहले राय बना लेना निष्कर्ष निकाल लेना फिर अपनी राय को सही साबित करने के लिए तथ्य एकत्रित करना. क्या बात है!

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP