यशवंत की कारिस्तानी, मीडिया की ख़बरों के बदले दलाली जारी.

रविवार, 23 अगस्त 2009

जो पोर्टल खुद को भारतीय मीडिया की खबरों का सबसे बड़ा मंच कहाता है उसकी औकात क्या है जानिए। एक ऐसा पोर्टल जो खुद को पत्रकारों का हितैषी और उनकी आवाज कहाता है, पत्राकारों का दुशमन है। डेढ साल पहले ये पोर्टल चला था, उसी वक्त VOI शुरू हुआ था। इस चैलन के हालात दिन ब दिन खराब होते गए। इस चैलन की खबरों को प्रकाशिथ कर करके वह पोर्टल नंबर वन गया। ये खबरें सच्ची भी थी और झूठी भी।
कुछ लोग इल्जाम लगाते हैं कि उस पोर्टल ने ही वीओआई की छवि धूमिल की। लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं था। वीओआई के अंदरूनी हालात खराब थे। और उस पोर्टल ने सिर्फ वही हालात सामने रखे, इसमें कोई गलती नहीं। वो अच्छा काम था, अभिव्यक्ति की आज़ादी सभी को है और इसी आधार पर मीडिया काम करता है।

शेष यहाँ पढ़ें ......

0 टिप्पणियाँ:

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP