लो क सं घ र्ष !: हिंदू आतंकी संगठनों की घुसपैठ

मंगलवार, 27 अक्तूबर 2009

मालेगांव की आतंकी घटना में हिंदू आतंकी संगठनों के साथ सैन्य अधिकारियों का सम्बन्ध भी प्रत्यक्ष रूप से थाउसी प्रकार मडगांव (गोवा) विस्फोट में आरोपी कार्यकर्त्ता (हिंदू सनातन संस्था) ने बड़े-बड़े नेताओं, पुलिस अधिकारी सहित न्याय व्यवस्था में भी पकड़ मजबूत कर रखी हैमुख्य बात यह है कि गोवा विधि आयोग अध्यक्ष रमाकांत खलप गोवा के गृह मंत्री रवि नायक ने इस बात को बड़ी साफगोई से माना हैप्रश्न यह उठता है चाहे हिंदू आतंकी संगठन हो या अन्य आतंकी संगठन होअगर उनका प्रभाव सेना से लेकर न्याय व्यवस्था तक है और उनके अधिकारी इन संगठनों के आदेश से कुछ भी कर गुजरने के लिए तैयार हैं तो देश के लोकतांत्रिक धर्मनिरपेक्ष स्वरूप को बनाये बचाए रखना मुश्किल होगासाम्राज्यवादी शक्तियां ऐसे संगठनों को मदद देकर देश को गृह युद्घ की स्थिति में झोंक देना चाहती है जिससे देश में हमेशा अशांति बनी रहेदूसरी तरफ़ पुलिस विभाग के लोग फर्जी एनकाउंटर करके जनता में वाहवाही लूटने का काम करते हैंअभी लखनऊ में एनकाउंटर विशेषज्ञयों की फायरिंग प्रक्टिस में निशाने टारगेट पर लगे ही नहीआतंकवाद का दमन करने के नाम पर बने सरकारी सशस्त्र बल भी फर्जी घटनाओ के आधार पर ही वाहवाही लूट रहे हैंपुलिस के एक क्षेत्राधिकारी ने अपने सरकारी असलहे से हाथी के ऊपर गोलियाँ चलाई थी और एक भी गोली हाथी को नही लगी थी । इससे यह साबित होता है कि यह लोग लोगों को पकड़ कर एनकाउंटर के नाम पर उनकी हत्या कर रहे हैं। आज जरूरत इस बात की है कि इन आतंकी सगठनों के ख़िलाफ़ ईमानदारी से वैचारिक स्तर से जमीनी स्तर तक संघर्ष की आवश्यकता है अन्यथा विदेशी साम्राज्यवादी शक्तियां इस देश की एकता और अखंडता को नुकसान पहुँचा सकती है

सुमन
loksangharsha.blogspot.com

2 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

मेरा मानना है कि आतंक का मार्ग प्रतिक्रिया से उपजता है। आखिर क्यों कोई हिंदू, मुसलमान, सिख या कोई अन्य आतंकी बन जाता है? हमें जड़े तलाशनी होंगी। आतंक के कारण धर्म के आवरण में होते हैं अंदर क्या है ये दिखता ही नहीं या दिखाया ही नहीं जाता। भड़ास आतंक के विरुद्ध है ये अंतिम उपाय रहता है अपनी बात मनवाने या सहमति छीनने का....
जय जय भड़ास

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

डाक्टर साहब से सहमत,
आतंक किसी कौम धर्म या महजब से जुडा हुआ नहीं हो सकता, कोई धर्म हमें आतंक नहीं सिखाता.
तो फिर ये आतंक आया कहाँ से?
निसंदेह हमारे समाज से उत्पन्न हुए असंतोष से सो हमें आतंकी नहीं अपितु आतंक के कारण को तलाश कर जड़ मूल से विनाश करना होगा.
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP