मै रुपेश भाई आमने सामने,

सोमवार, 12 अक्तूबर 2009

आज मै आप सभी से अपनी ख़ुशी बाँटना चाहता हूँ मै आप सभी को बताना चाहूँगा की पिछली तीन तारीख को मै मुंबई जा पहुंचा और अगले दिन सीधा जा पहुंचा हमारे डॉक्टर रुपेश भाई के डेरा पर जो पनवेल में है जैसा सोचा था वैसा ही इंसान मेरे सामने था ऐसा कहीं से नहीं लगा की हम पहली बार मिल रहे हों शायद ये भड़ास पर बने रिश्ते की वजह से था या रुपेश भाई का व्यक्तित्व जो सैकडों मील दूर होते हुए भी वैचारिक रूप से हमेशा हम सभी के साथ होते हैं, मै जब रुपेश भाई की बताई हुई जगह पर पहुंचा तो यही सोच रहा था रुपेश भाई हैं कहाँ उस रोड से आने जाने वाले हर शख्श को गौर से देखता लेकिन फिर अचानक सामने से पठानी सूट में एक नौजवान दिखा उर्जा से भरा हुवा चेहरे का तेज दूर से ही बता रहा था की यही हैं भडासियों के सरदार और फिर हम बिछडे हुए भाईओं की तरह मिले वहां से चाँद क़दमों की दूरी पर रुपेश भाई का आशियाना था रस्ते में ही मुझे पता चला की मुनव्वर आप भी यहीं सामने रहती हैं जान कर ख़ुशी हुई की उनसे भी मुलाक़ात हो जायेगी हाँ शमा आप और मनीषा दीदी वहां से काफी दूर रहती हैं जानकर अफ़सोस भी हुआ की इस बार मुलाक़ात नहीं हो पायेगी.फिर हम पहुंचे भड़ास की जन्मस्थली पर मतलब रुपेश भाई के आशियाने पर जहाँ आफताब भाई से मुलाक़ात हुई जो शायद नींद से जगाये गए थे फिर शुरू हुईं बातें इसी बीच रुपेश भाई की आदरणीय माता जी भी आ गयीं उनसे आशीर्वाद मिला फिर हम लोगों ने एक विस्तृत चर्चा की और मेरा दावा है की भडास का ये धमाका बड़े बड़े दलालों की दुकान बंद कर देगा खैर बैटन में वक़्त का पता नहीं चला और टाइम हुवा दोपहर के खाने का और मुझे पता चला की खाना मुनव्वर आपा के घर खाना है अब मेरी उत्सुकता फिर बढ़ गयी की मुनव्वर आपा से मिलने जा रहा हूँ हम जैसे जैसे मुनव्वर आपा के घर के नजदीक पहुँच रहे थे मै सोच रहा था क्या आपा मुझे पहचानेगी लेकिन जैसे ही आपा ने मुझे देखा बोली 'ये गुफरान भाई हैं' उनकी ख़ुशी देख कर मुझे उस वक़्त मेरी आपा की याद आ गयी मै जब भी उनके घर मिले जाता हूँ वो दूर से आवाज़ लगाना शुरू कर देती हैं,अन्दर जैसे ही पहुंचा सामने मोहम्मद उमर रफाई(मुनव्वर आपा के पिता जी) मिले उनसे मिलने के बाद हमारे बीच नन्हे भडासी के नाम से मशहूर बादशाह बासित और तेज तर्रार भदासिन फरहीन सबसे मिल कर लगा की वास्तव में रुपेश भाई की ये ताक़त हैं. फिर बिरयानी का प्रोग्राम चला फिर चाय और उसी बीच हम फिर आपसी चर्चा में मशगूल हो गए वहां से फिर हम सभी लोग रुपेश भाई के घर आये जहाँ कुछ फोटो खींचने का प्रोग्राम हुवा वास्तव में हम सभी चाहते थे की ये यादगार लम्हे कैमरे में कैद हो जाएँ खैर उसके बाद मैंने इस वादे के साथ विदा लिया की अगली बार ज्यादा वक़्त निकाल कर मुंबई में रुकुंगा.जीवन में ये वक़्त हमेशा याद रहेगा और मुझे आशा है की भड़ास परिवार हमेशा ऐसे ही खुशियों के साथ आगे बढता रहेगा.
आपका हमवतन भाई - गुफरान सिद्दीकी (अवध पीपुल्स फोरम फैजाबाद)

9 टिप्पणियाँ:

Aftab ने कहा…

हमें भी आपसे मिलकर बेहद खुशी हुई।
इन्शा अल्लाह! जल्द ही दुबारा मिलना होगा।

जय जय भड़ास!

गुफरान सिद्दीकी ने कहा…

shuqriya manoj bhai aur aftab sahab jald hi zaroor mulaqat hogi

Suman ने कहा…

gufraan sahab namastey,
bamabai k rashtey mein barabanki bhi padta hai kripya hamare hisse ki biryani bhijva dein.

dhanyvaad

aapka,
Suman

हिज(ड़ा) हाईनेस मनीषा ने कहा…

गुफ़रान भाई,मुझे बाद में पता चला कि आप आए थे अफ़सोस हुआ कि आपसे मिल न सकी लेकिन विश्वास है कि दोबारा आने पर जरूर मिल पाउंगी। मेरे पास तो फोन भी नहीं है कि मुझे तुरंत बताया जा सकता। मैने भाई के हाथों से आपको गले लगा लिया है वो हाथ हम सबके ही हैं वो हजार हाथ वाले होकर भी दो हाथ वाले दिखते हैं।
जय जय भड़ास

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

वाह अद्भुत,
भड़ास मिलन का संयोग. हम तो पढ़ कर ही आनंदित हो रहे हैं.
भड़ास परिवार का मिलन जारी रहे और सामाजिक चेतना और उत्थान के लिए भड़ास कि मुहीम भी.
जय जय भड़ास

मुनव्वर सुल्ताना ने कहा…

गुफ़रान भाई सचमुच आप सबसे मुलाकात बहुत अच्छी रही लेकिन बहुत कम समय के लिये थी। सुमन भाईसाहब जब आप मुंबई आएंगे तो आपके लिये बिरयानी प्रतीक्षा करती मिलेगी। रजनीश भाई जब मुंबई में थे तब की यादें अब भी उतनी ही ताजा हैं; मैं, डा.साहब,मनीषा दीदी,दिव्या,भाई हरभूषण सिंह सभी ने वाशी स्टेशन पर भड़ास की ऊर्जा का आनंद लिया था। भाई गुरूदत्त तिवारी जब आए थे तब मैं पुणे में थी लेकिन उनसे फोन पर अवश्य बातें हुई थीं। कृष्णा शर्मा दीदी तो मनीषा दीदी के जन्मदिन पर सतना (मध्यप्रदेश) से आयीं थीं।
सोचिये ये सब एक शख्स के निमित्त बनने से हो रहा है और वो हैं हमारे अनोखी शख्सियत के मालिक डा.रूपेश श्रीवास्तव जी। भड़ासियों की मुलाकातें ऐसे ही जीवन में ऊर्जा का संचार करती रहें और सुख-दुःख बांटने का रास्ता बनाएं ईश्वर से प्रार्थना है।
जय जय भड़ास

गुफरान सिद्दीकी ने कहा…

aap sabhi ke pyar ashirwad ka shuqriya aur suman bhai jab bhi aadesh karen banda biryani ke saath hazir ho jayega

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

गुफ़रान भाई मैं जल्द ही आपकी टीम से मिलना चाहता हूं साथ ही बाराबंकी जाकर सुमन जी के दर्शन करना चाहता हूं।
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP