यू.एस.ए. में भड़ास के चाहने वाले....

मंगलवार, 22 दिसंबर 2009

वैसे तो साम्राज्यवाद से भड़ासी हमेशा से चिढ़े रहते हैं और जी भर कर कोसते भी हैं। भड़ास सत्यतः उन लोगों का मंच बन कर उभरा है जो खेतों के किनारे बैठ कर चटनी रोटी खाकर बीड़ी पी रहे हैं तम्बाकू खा कर थूक रहे हैं और बुरी व्यवस्थाओं के लिये सरकार को कोस रहे हैं, अपनी देसी भाषा में गालियां देते हुए दोबारा खेती में जुट जाते हैं या आम निम्न मध्यमवर्गीय परिवार का आदमी जो कि मंहगाई और टैक्स के बोझ से मरा जा रहा है, मिलों के मजदूर जो दिनरात हड्डियां पेल कर काम करने के बाद भी सामान्य जीवन नहीं जी पा रहे।
पिछले कुछ समय हमने देखा है कि भड़ास पर आने वाले मेहमान अमेरिका के इंडियाना पोलिस(इंडियाना), माउंटेन व्यू(कैलीफोर्निया), डल्लास(टैक्सास), सैन एन्टोनिओ(टैक्सास),बेवरली हिल्स(कैलीफोर्निया), एलिआन्स(ओहियो) आदि जगहों से नियमित रूप से आ रहे हैं। मुझे ये पता चलता है कि वे क्या देखते हैं कितना देर तक देखते हैं। मुझे पूरा यकीन है कि ये वो लोग हैं जो कि कहीं न कहीं अपने देश से जुड़े रहे होंगे। उनकी जड़े तो इस गरीब देश में ही हैं सो भड़ास के पन्ने पलट कर देसज अनुभूतियों को महसूस कर लेते होंगे, बिछुड़े हुए वतन की मिट्टी की सुगंध है भड़ास के हर पन्ने पर जो उन्हें रोज ही इधर खींच लाती है।
हम तहेदिल से अपने इन भाई बहनों का भड़ास पर स्वागत करते हैं और उनसे अपेक्षा रखते हैं कि वे भी अपने बारे में यदि लिखना चाहें तो दिल खोल कर लिखें ये भड़ास है आप यहां आकर मानसिक आरोग्य प्राप्त कर सकते हैं विचार रेचन का लाभ लेकर। शायद हम सभी एक ही वैचारिक तल पर ज़िन्दगी जी रहे हैं यही वजह है आप सबके भड़ास पर नियमित रूप से आने की। अब मुझे विश्वास हो गया है कि हमारा भड़ास परिवार दुनिया के दूसरी तरफ भी फैल चुका है जो कि जाति - धर्म - भाषा- रंगभेद- लिंगभेद - क्षेत्र आदि जैसी तुच्छ बातों से बहुत ऊपर है। हम सिर्फ़ इंसान हैं जो कि इस प्यारी धरती पर मिलजुल कर रहना चाहते हैं। देशों की सीमा हमारे प्यार पर बाध्यकारी नहीं है। एक बार फिर हमारे इन भड़ासी परिवारी जनों को भड़ास के संचालक मंडल और सभी भड़ासियों की तरफ से स्वागत और ढेर सारा प्यार
जय जय भड़ास

2 टिप्पणियाँ:

मुनव्वर सुल्ताना ने कहा…

ये देख कर अच्छा लगता है कि भड़ास परिवार ने सरहदों को पार करके अपने प्रेम का विस्तार करा है। भड़ास तो जीवन का दर्शन है उसमें देशों की सीमाओं का बंधन नहीं है। दुनिया के दूसरी तरफ रहने वाले भड़ास प्रेमियों को हम सबकी तरफ से ढेर सारा प्यार
जय जय भड़ास

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

बहुत बढ़िया जानकारी गुरुदेव,
भड़ास सारी सीमाओं को लांघे और मानवता के लिए लड़ता रहे.
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP