अबे चूतियों! राज ठाकरे की बजाए यू.पी. और बिहार के नेताओं को मारो

गुरुवार, 17 दिसंबर 2009

भड़ास और अनेक समाचार पत्रों में सर्वोदय समाज के अशोक कुमार सिंह द्वारा महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे को २५ दिसम्बर के रोज जान से मार देने वाले धमकी भरे पत्र की चर्चा देखी। विचार करने पर कोई मूर्ख भी इस नतीजे पर आ सकता है कि यदि अपने घर में खाना मिले तो कोई क्यों बाहर कमाने जाएगा। मैं बिहार का रहने वाला हूं और इस बात को भली प्रकार से जानता हूं कि खेती से लेकर खनिज तक की बड़ी सम्पदा होने के बावजूद इस राज्य के नेताओं ने क्षेत्र को एकदम जंगल जैसा, दीनहीन, दरिद्र और अराजकता से भरा बना कर रखा है। यू.पी. और बिहार जैसे सम्पन्न राज्यों को चूस कर वहां के नेताओं ने हजारों करोड़ रुपए स्विस बैंको के अपने खातों में जमा कर रखे हैं अगर ये कमीने चाहते तो राज्य का इतना विकास कर सकते थे कि कुदरती तौर पर संसाधनों से सजे हुए इन प्रदेशों को रोजगार की प्रचुरता से भर सकते थे लेकिन इन हरामियों ने हमारे प्रदेशों को दरिद्र और अराजक बना कर रखा।
मैं राज ठाकरे की सोच से पूरी सहमति तो नहीं रखता लेकिन जमीनी सच्चाई यही है कि यदि हम इतने वर्षों तक किसी से उसकी रोटी-रोजगार बांटते रहे और वो कुछ न बोले तो अच्छा है लेकिन अगर वो अपने हक की बात करे तो गुंड़ा और बदमाश कहलाने लगता है। मैं सर्वोदय समाज के दुर्बुद्धि चूतियों को ललकार रहा हूं कि अगर दम है तो जिन्होंने यू.पी., बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों को चूस लिया है उनमें से एक भी नेता को मार कर दिखाएं। मधु कोड़ा क्या इन कुबुद्धि क्रान्तिकारी बने चूतियों का बाप है जो इनकी इतनी बुरी तरह बजा चुका है लेकिन वो इन्हें मंजूर है। कोई हिंदी का विरोध कर दे तो उसे जान से मार देंगे और कोई जमाने से प्रदेश की जनता की अस्मिता के साथ लगातार सामूहिक बलात्कार कर रहा है तो उसे कुछ न बोलेंगे। मैं अशोक कुमार सिंह से कहता हूं कि क्या अपने रोजगार और संसाधनों को बांटने की हिम्मत है? मैं दाद देता हूं महाराष्ट्र के लोगों का जिन्होंने इतने समय तक सहिष्णुता से बाहरी लोगों से अपनी रोटी-रोजगार को बांटा है।
जय जय भड़ास

4 टिप्पणियाँ:

Suman ने कहा…

sahi likha hai.nice

फ़रहीन नाज़ ने कहा…

सब सही है लेकिन राज ठाकरे और इन जैसे कथित तौर पर मराठी अस्मिता की रक्षा करने वालों ने महाराष्ट्र के साथ भी वही करा है जो कि यूपी-बिहार के नेताओं ने उन राज्यों के साथ करा है। महाराष्ट्र के नेताओं को सिर्फ़ मुंबई दिखता है विदर्भ,कोंकण आदि नहीं.....। इनको भी सड़कों पर दौड़ा कर मारा जाना चाहिये।
आपने जो लिखा है वह सही है क्रान्ति की राह गलत हो चली है इन बन्दों की....
जय जय भड़ास

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

दीनबंधु भाई,
आपसे शतप्रतिशत सहमत हूँ,
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP