लो क सं घ र्ष !: माननीय उच्च न्यायलय को गुस्सा आया

शनिवार, 9 जनवरी 2010

माननीय उच्च न्यायलय उत्तर प्रदेश ईलाहाबाद खंडपीठ लखनऊ के न्यायमूर्ति राजीव शर्मा न्यायमूर्ति सतीश चन्द्र मिश्रा दो नामो से दायर याचिका को ख़ारिज करते हुए याचिकाकर्ताओं पर दस-दस लाख का जुर्माना ठोका तथा याचिकाकर्ताओं के अधिवक्ताओं पर भी 25 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है और जिला अधिकारी सिद्दार्थनगर को आदेशित किया है की एक माह के अन्दर जुर्माना वसूल कर लिया जाए इस फैसले के पीछे तर्क यह लिया गया है कि याचिकाकर्ताओं ने गलत याचिकाएं दाखिल कर न्यायलय के समय को बर्बाद किया हैन्यायलय के आदेश की हम कोई आलोचना नहीं कर रहे हैं लेकिन न्यायलय को राज्य द्वारा किये गए अधिकांश वाद, जो फर्जी साबित होते हैं उनपर भी राज्य के खिलाफ इस तरह की कठोर कार्यवाही करनी चाहिएमाननीय उच्च न्यायालय द्वारा पारित आदेशों का उल्लंघन राज्य करता रहता है और उसके अधिकांश निर्णय तब लागू हो पाते हैं जब अवमानना की कार्यवाही शुरू होती हैएक आइ..एस अफसर माननीयों के सामने अवमानना की कार्यवाही में उपस्तिथ होता है तो वह क्षमायाचना करके फुर्सत पा जाता है और उसके खिलाफ कोई सख्त कार्यवाही नहीं होती है अच्छा यह होता की यदि राज्य के प्रति थोडा सा गुस्सा माननीय उच्च न्यायलय दिखाए और कठोर कार्यवाही कुछ करे तो वादों का काफी बोझ हल्का हो सकता है अफरा-तफरीह का माहौल है आए दिन विधि विरुद्ध निर्णय अधीनस्थ न्यायलयों द्वारा पारित होते रहते हैं सम्बंधित पीठासीन अधिकारीयों के खिलाफ माननीय उच्च न्यायलय कोई कार्यवाही अपने निर्णय करते समय नहीं लिखता हैराजस्व, व्यापार कर, आयकर तथा करों से सम्बंधित अदालतें विधि विरुद्ध आदेश करती रहती हैं अंत में माननीय उच्च न्यायलय से ही जनता को राहत मिलती है कभी भी माननीय उच्च न्यायलय उन पीठासीन अफसरों के खिलाफ कार्यवाही नहीं करता हैजनता कमजोर होती है अधिवक्ता निरीह होता हैन्यायलय की मदद अधिवक्ता करने के लिए होता है वह कोई पक्षकार नहीं होता है और अगर न्यायलयों के गुस्से से अधिवक्ताओं के ऊपर जुरमाना लगाने की परंपरा चल निकली तो माननीय उच्च न्यायलय को यह सोचना पड़ेगा की वह कैसे न्याय व्यवस्था बनायेंगे और कैसे लोगो को न्याय देंगे

सुमन
loksangharsha.blogspot.com

3 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

बाप रे! अब तो जज अंकल को भी गुस्सा आने लगा अभी तक तो बस अल्बर्ट पिन्टॊ को गुस्सा क्यों आता है इसी बात का विवाद था लेकिन अब तो ज्यादा लफड़ा बढ़ गया। गुस्सा करने वालों की फेहरिस्त लम्बी होती जा रही है। गुस्सा विवेक को खा जाता है और यदि न्याय व्यवस्था को चलाने वाले विवेकहीन हो गये तो देश का क्या होगा? न्यायाधीश को बिलकुल अधिकार नहीं होना चाहिये कि वह "निरीह" अधिवक्ताओं पर गुस्सा करे आखिर वे भी उसी सिस्टम के पुर्ज़े हैं कल को उनमें से ही कोई उछल कर जज बन जाता है तो???????
जय जय भड़ास

nirupama varma ने कहा…

न्याय में अन्याय ???? जैसे शहद में नीम का रस ... इस देश का क्या होगा ? बंधू .....

मुनव्वर सुल्ताना ने कहा…

ये बात विचित्रतम है कि माननीय उच्च न्यायालय या सर्वोच्च न्यायालय निचली अदालतों के गलत फैसले देने वाले न्यायाधीशों के विरुद्ध कार्यवाही क्यों नहीं करता जबकि कानून की सोच तो सब जगह एक सी है, कोई आदमी निचली अदालत से सजा पा जाता है और ऊपरी अदालत उसे बरी कर देती है यानि कि निचली अदालत के जज महोदय ने तो उसकी जान ले ही ली थी अगर वो बेचारा ऊपर अपील करने की स्थिति में न हो तो.... यदि नीचेके जज दंडित होने लगें तो शायद ऊल जुलूल फैसले देने और कोताही से बच सकेंगे।
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP