मीडिया खबर की दुकानदारी करती है : - विनोद मेहता

गुरुवार, 7 जनवरी 2010

अमर सिंह ने समाजवादी पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा क्या दिया मानों ख़बरों की बाढ़ आ गयी और मिल गया खबरिया चैनलों को विशेष दिखाने का मुद्दा.


अमर सिंह मुलायम सिंह और समाजवादी पार्टी में सास बहु सरीखे रिश्ता रहा है, कभी नोक झोक तो कभी आलिंगन. कभी मिलाप तो कभी रुसवाई और अंत में बाँहों में डाले हाथ अमर मुलायम की जोड़ी.


अमर सिंह ने कई बार समाजवादी पार्टी में अपनी नाराजगी दिखाई है परन्तु मुलायम से कभी इनकी नाराजगी नहीं रही यही वजह रही कि मन मुनव्वल के बाद बड़े और छोटे भाई हमेशा साथ दिखे.


दुबई से अमर सिंह के दिए इस्तीफे के बाद ख़बरों के बाजार में अखबार हो या अंतरजाल या फिर खबरिया चैनल इस मुद्दे को कोई भी गंवाना नहीं चाहता सो सभी ने इस को विशेष दर्जे के साथ प्रसारित किया. एक खबरिया चैनल पर विनोद मेहता भी थे जो कि आउटलुक साप्ताहिक के संपादक हैं और वरिष्ट पत्रकार भी और इसी मुद्दे पर बोलते बोलते अपने दिल कि बात को जुबान पर लाने से नहीं बच पाए और बोल ही दिया कि " अगर राजनीति से अमर सिंह जैसे लोग चलें जाएँ तो पत्रकारिता की तो दुकानदारी ही बंद हो जायेगी" नि:संदेह मीडिया की वास्तविक हकीकत को बयाँ कर गयी.


लोकतंत्र के चौथा खम्भा होने का दावा करने वाली पत्रकारिता गुजरे ज़माने के साथ बदलती चली गयी और बाजारवाद में रह गए मीडिया को बेचने वाले. खबर के बाजार में अपने अपने उत्पाद को बेचने के लिए मीडिया के व्यवसायी ने रखा अपने यहाँ पत्रकार नामक मार्केटिंग प्रोफेसनल जो बाकायदा खबर को बेचने में अपने अपने मीडिया हॉउस के लिए खबर बेच रहे हैं और हिन्दुस्तान के लोगों को फ्राड करने के धंधे में अग्रणी बने हुए हैं.

5 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

नाचो खूब नचाओ रम्भा...
चोंथो चॊथो चौथा खम्भा....
पत्रकारिता नहीं है भाई ये न्यूज़ डीलिंग है कोई होलसेलर है और कोई रिटेलर सब अपने अपने भाव से खबर बेच रहे हैं।
जय जय भड़ास

दीनबन्धु ने कहा…

मेहता जी कौन सी दुनिया के रहने वाले हैं। अरे यार ! मीडिया खबरों की दुकानदारी नहीं करे तो क्या पालक बेचे या फिर कंडोम????
जय जय भड़ास

मनोज द्विवेदी ने कहा…

KALLU-MATHALLU CHANE KI DAL
SAB BAMBAIYA HAM CHANDAL.....
JANTE SAB HAIN...MAGAR JANTE JANTE KAHI JAAN N CHALI JAY..

बेनामी ने कहा…

देखिये वक्त अब भी है,पत्रकारिता जैसी पवित्र व सावधिक मुनाफा देने वाली धंधे की गरिमा को बचाये .3इडियटस देखिये मेहता साहब ,चंद सिकौ के लिये हमारे कतिपय पत्रकार भाई नेताओ के कैसे सजदे करते है,पहले पत्रकारिता को धना सेठो के हाथो से मुक्त तो कराइये.लेकिन सबकुछ बदलेगा जरूर बदलेगा आमीन्

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP