जैसे रणधीर सिंह सुमन,गुफ़रान सिद्दकी की बत्ती गुल हो गयी अब डॉ.अनवर जमाल की कुछ दिन गायब रहेगी

मंगलवार, 20 जुलाई 2010

डॉ. जमाल ने अपने पोस्ट में लगाये असंबद्ध लेबल के बारे में जो टिप्पणी दी सबसे पहले उसमें उन्होंने उनके ऊपर आलेख का धन्यवाद करा फिर उस असंबद्ध टैग के संबंध में किसी पुराण कथा का रहस्य कहा कि बाद में बताएंगे कि आलेख में वह असंबद्ध टैग क्यों जरूरी था आदि आदि। अंत में लिखा कि अगर बिजली गुल न रही तो शायद बात को आगे बढ़ाया जाएगा और बताया जाएगा कि इस पुनीत कार्य के पीछे क्या मजहबी उद्देश्य या ईश्वरीय प्रेरणा थी लेकिन लग रहा है कि अब कुछ दिन तक बत्ती गुल रहेगी जैसे कि भड़ास के मंच से रणधीर सिंह सुमन जी और गुफ़रान सिद्दकी जी की बत्ती काफ़ी दिनों से गुल है। असल में होता ये हैं कि भड़ास के न्यूक्लियर पावर हाउस से यदि बिना सोचे विचारे दीवाली की झालर लगा दोगे और सोचोगे कि टिमटिमा कर लोगों को बताते रहोगे कि कितनी पवित्रता है विचारों में तो जैसे ही जुड़ते हो धड़ाम से फ़्यूज़ हो जाता है हर बल्ब न्यूक्लियर पावर हाउस चालू रहता है लेकिन तुम्हारी बत्ती गुल हो जाती है। इंतजार रहेगा और आपके ऊपर हम लोग बहुत कुछ लिखेंगे लेकिन याद रखियेगा कि यहाँ वेद और धम्मपिटक आदि खोलने से काम नहीं चलने वाला सर्वमान्य हल बताइयेगा। दूसरी बात कि क्या आपने मेरी बताई हुई पिछली दो पोस्ट पढ़ी जिन्हें मैंने टिप्पणी में कड़ीबद्ध करा था?
जय जय भड़ास

2 टिप्पणियाँ:

DR. ANWER JAMAL ने कहा…

'भड़ास बिग्रेड' को बताना चाहिये कि वह कौन सी तकनीक या विधि है जिसकी वजह से
शासक वर्ग लोगों को उनका वाजिब हक़ अदा करने के लिये खुद को बाध्य महसूस करे?
और जनता जो मिले उस पर संतुष्ट हो जाये, फ़ालतू आंदोलन करके बवंडर खड़ा न करे ?
और सबसे बड़ी बात यह कि ‘वाजिब हक़‘ क्या है यह कौन तय करेगा ?
शासक या जनता ?

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

भड़ास अपने आप में बिग्रेड ( जैसा कि आपने लिखा) है ये कम नहीं कि कोई भी संकट हो समस्या हो और जिसका जुड़ाव सीधे हमारे आपसे हो में भड़ास परिवार एकजुट हो कूद पड़ता है.
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP