सन्नाटे का कारण है उल्टी के पात्र की सफ़ाई कर देना

मंगलवार, 6 जुलाई 2010

आदरणीय डॉ.रूपेश जी ने लिखा है कि भड़ास पर सन्नाटा क्यों है क्या मंहगाई के विरोध में भड़ास पर भी साप्ताहिक बंद का अघोषित बंद रखा गया है? मैं बताता हूं कि दर असल बात क्या है, पहले भड़ास पर रोजाना ही छद्मनेता रणधीर सिंह सुमन और उसकी मक्कार मार्क्सवादी टोली "लोकसंघर्ष" की दो चार पोस्ट आ ही जाती थीं जो कि अब नहीं आती हैं। रही बात बाकी भड़ासियों की तो उनमें से एक आप और अजय मोहन जी और कभी कभार मुनव्वर आपा लिख लिया करते हैं। दीन बंधु जी भी उतने सक्रिय नहीं रह गए हैं सब की अपनी अपनी परिस्थितियां रहती हैं। कोई जरूरी नहीं है कि हरेक को हमेशा वैचारिक उल्टियां होती ही रहें। जो स्वस्थ महसूस कर रहा है उसे मुंह में उंगली डाल कर उल्टी करने की जरूरत नहीं है।
गुफ़रान सिद्दकी को मैंने जब से ललकारा है तब से उन्हें भी साँप सूंघ गया है अब शायद साँस भी ले रहे हैं कि नहीं ये तक नहीं सुनाई दे रहा, शुरुआत में तो इतना फुदके कि टोड और राना टिग्रीना से टक्कर लेने लगे लेकिन जब उनकी भी विचार धारा का अचार सड़ने लगा और सड़ांध भरे बर्तन का ढक्कन मैं ने हटा दिया तो सन्नाटा साध गए और पूरा यकीन है कि मुझे भड़ास के बारे में उपदेश देने वाले ये श्रीमान अब खुद शायद भड़ास की तरफ मुँह करके भी न सोंएगे वरना रात में चीख मार मार कर उठ जाएंगे कि संजय कटारनवरे ने रगड़ दिया है।
अनूप मंडल के लोग भी शायद मुझे जैन समझ कर या फिर अकारण ही छद्मनेता रणधीर सिंह सुमन के बस "नाइस" लिख देने से प्रसन्न होकर उसकी तरफ से खड़े थे जो अब गायब हैं। जब किसी अनिष्ट का आरोप जैनों पर जड़ना होगा तो ये जरूर दिखेंगे, इन्हीं के कारण अमित जैन जो कि बिना बात के उलटे सुलटे चुटकुले लिखा करते थे वो अपना बोरिया बिस्तर समेट कर भड़ास से भाग लिये हैं।
बात सिर्फ़ इतनी है कि इसकी उसकी सहलाते रहिये तो लोग आते रहेंगे वरना गायब..........।
एक बात और बताइये कि आपने जिन  पवन मेराज, सलीम, नदीम और सुदर्शन धारी वकील की तस्वीरें लगा रखी हैं ये इस तरफ कब आखिरी बार आए थे? छाया जी और मनीषा दीदी का तो भड़ास से जुड़ाव इनके ब्लॉग पर जाने से दिख जाता है लेकिन ये लोग?????? जरा उल्टी करने वाले पात्र की साफ़ सफ़ाई कर लीजिये और कचरा साफ़ करिये।
जय जय भड़ास
संजय कटारनवरे
मुंबई

1 टिप्पणियाँ:

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

गुरुदेव,
कटारनवरे साहब की बात पर ध्यान दें ;-)
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP