Re: आज का विषय ।।

रविवार, 18 जुलाई 2010

प्रश्न आपके इसी ई-पत्रम् के सन्दर्भ में है.
आपने अंत में लिखा है
१. भवदीयः इस शब्द में क्या दो बिंदियाँ विसर्ग हैं ?
२. आपने अपना नाम आनन्दः क्यों लिखा है ? यह तो प्रथमा विभक्ति का एक वचन है, क्या आनन्दः लिखना सही है ? (यानी कि विसर्ग सहित प्रयोग सही है ?)
यदि  आपका उत्तर मिला तो अगली बार से मैं भी ऐसे ही लिखूंगा.
धन्यवाद.
आपका,
राजीव.

१८ जुलाई २०१० १०:२९ PM को, ANAND PANDEY <pandey.aaanand@gmail.com> ने लिखा:
आदरणीय बन्‍धुओं

आज कुछ दैनिक प्रयोग के शब्‍द प्रस्‍तुत कर रहा हूँ ।
इनकी आवश्‍यकता आपको लेख लिखते समय अवश्‍य पडेगी ।

शब्‍दकोष:


एक बात और , आप भी हमें अपनी शंकाएं दीजिये, ऐसे शब्‍द बताइये जो आपको जानने हों और जिनका अर्थ आपको नहीं मिल पा रहा हो

समाधान प्रस्‍तुत करनें में मुझे भी आसानी होगी ।

भवदीय: - आनन्‍द:

1 टिप्पणियाँ:

आनन्‍द पाण्‍डेय ने कहा…

हाँ भवदीय: में दो बिन्दियाँ विसर्ग ही हैं ।

हमने अपना नाम आनन्‍द: इसलिये लिखा है कि संज्ञा हमेसा प्रथमा एकवचन में ही होती है ।
कारण कि यदि हम विसर्ग निकाल देते हैं तो केवल प्रातिपदिक रह जायेगा जो कि व्‍याकरण की दृष्टि से गलत है अत: यहाँ आनन्‍द: लिखा गया है ।

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP