क्या भडास ब्लॉग २ की जगह ३ संचालको द्वारा चलाया जा रहा है ,जिसमे तीसरा अघोषित संचालकअनूप मंडल के ३००० में से कोई एक है

बुधवार, 11 मई 2011

कल दिनाकं १० मई २०११ को अनूप मंडल ने एक सोची समझी साजिश के तहत सुबह 11  बज कर 6  मिनट पर मेरी पोस्ट

संजय कटेहुए की नई तस्वीर अभी अभी भडास पर जारी की जा रही है

पर  टिपण्णी की ,

जिसे देख कर मै न जाने क्यों खुश हो गया और सोचने लगा की यार चलो एक डेड साल से चल रहा वाद विवाद खतम हो गया ,परंतुमै ये बात न समझ पाया की ये अनूप मंडल के ३००० लोगो में से किसी  शातिर दिमाग की साजिश है ,जों पूर्ण रुपरेखा के साथ बनाई गई  थी ,अब तक तो मुझे और परवीन को शक था की ये ब्लॉग अनोप मंडल के परचार परसार का जरिया बन रहा है परन्तु कल की घटना ने इस शक को यकींन में बदल दिया है , जिसमे जाने अनजाने डॉ साहब का योगदान हो रहा है ,

पहली बात जों पोस्ट मैंने की , वो अचानक कैसे हट गई , जब की उस पोस्ट को मै हटा सकता था या संचालक महोदय , मैंने वो पोस्ट नहीं हटाई

डॉ साहब के अनुसार उन्होंने भी नहीं हटाई  तो वो हटी कैसे ?

उससे भी ज्यादा आश्चर्य जनक की वो कमेन्ट भी हटा दिया गया और इस अंदाज में की उस का नमो निशान भी नहीं रहा 

मैंने वो अनूप मंडल के कमेंट का स्क्रीन शाट दोबारा पोस्ट कर दिया है 

------- -----------------------

डॉ साहब आप दोनों स्क्रीनशोट को देखे और बताये क्या यहाँ गडबड झाला नहीं है ,क्या दोनों टिपण्णी एक जैसी है ,?

क्या दोनों में कुमारी शालू एक ही तरह से लिखा है ?

मै समजता हू की आप अब मेरी बात समझ जायेगे की मुझे किस तरह से उल्लू बना कर अनूप मंडल अपने लिए रास्ता साफ़ करना चाहता है 

आपने कहा की मै भडास छोड कर भाग जाऊँगा , डॉ साहब क्या आप मेरे बारे ये विचार रखते है?

या  ये बात तो नहीं मुझे इस बहाने से भडास से हटाने की साजिश हो रही है ,

हा संजय भाई मेरे कार्टून से तो तुम्हे  ही दस्त लग गए थे और तुम्हारा हगा अनूप मंडल की खुराक बनने लगा था कार्टून से बेहोशी टूट गई हो तो अब दोबारा से तैयार हो जाओ फिर डंडा करुगा तो ऐसे ही चिखते रहोगे 










5 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

अमित भाई आप अभी भी भड़ास के संचालकों को ऐसा मान रहे हैं कि हम दोनो निरे मूर्ख हैं कि आप हमें शालू जैन के अलग अलग तरह से लिखे स्टाइल दिखा कर भ्रमित कर देंगे तो जान लो कि प्यारे जब अनूप मंडल ने शालू जैन को रगेदा कि ये एक भड़ासी की करतूत है जो कि बिना साइन-इन करे नहीं करी जा सकती तो इस नाम का ब्लागर प्रोफ़ाइल बना दिया गया लेकिन अभी भी न तो सुरेश वर्मा न ही शालू जैन का प्रोफ़ाइल देखा जा सकता है। अनूप मंडल यदि संचालक होता तो तुम समझते हो न कि तुम्हारी हरकतों का बच्चापन कब का निकल चुका होता। शालू जैन या कोई भी ब्लागर प्रोफ़ाइल बना भी ले तो बिना संचालक की अनुमति के कमेंट प्रकाशित नहीं होता। मैं शालू जैन और सुरेश वर्मा को आमंत्रित करता हूं कि प्रवीण शाह के अनुसार वे ढक्कन इतने बड़े हैकर हैं कि ब्लागर की सुरक्षा तोड़ सकते हैं तो मेरी सारी पोस्ट्स डिलीट करके दिखा दें। बाकी तुम खुद समझ रहे हो कि मैं क्या और क्यों कह रहा हूं
जय जय भड़ास

अनोप मंडल ने कहा…

आदरणीय डा.साहब आपने इस राक्षस की असलियत को पहचान लिया यानि कि हमारा श्रम व्यर्थ नहीं गया। बस इसी तरह सारी मानव जाति इन राक्षसों को पहचान ले तो हमारा जीवन काम आ जाए
जय जय भड़ास
जय नकलंक देव

अमित जैन (जोक्पीडिया ) ने कहा…

कुमारी शालू ,सुरेंदर से मेरा कोई लिंक क्यों बनाया जा रहा है ?
पोस्ट में लिखे किसी भी सवाल का जवाब क्यों नहीं सीधे सीधे दिया जा रहा है ?
सभी सवालो पर ये सावधानीपूर्वक चुप्पी क्यों रखी जा रही है ?
अनूप मंडल की काली करतूत का भांडा फोड होने के बाद ही अनूप मंडल से माफ़ी क्यों नहीं ली जा रही ?

sanjay ने कहा…

अभी ये शालू जैन की साड़ी पहन कर लिंग परिवर्तन करवा कर आ जाएगा और कमेंट करेगा। अरे महागधे कुछ तो शर्म कर...
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP