91 सदस्यों में से कोई एक संचालकों को धोखा दे ले ये भी संभव नहीं है??????????

मंगलवार, 5 जुलाई 2011


 १)डॉ साहब आप सिर्फ इतना बताये की जो तकनीक ब्लोगिंग मे मुझ नासमझ ने (आपके अनुसार )बताई है क्या वो संभव नहीं है
२)
आप का कहना की कोई आप को धोका नहीं दे सकता ,तो इस तकनीक के होने पर आप उस को किस तरह से पकड़ेगे ,जरा इस का भी खुलासा कीजिये
३) मेरा आप को टेलीफोन करना तो मानवीय रिश्तो मे किसी भी तरह की गलतफहमी को दूर करने का प्रयास मात्र और आप की मधुरवाणी का श्रवण करना था
४ )@ मैं एक सच्चा बाकी जग बच्चा
  मुझे तो लगता है की यहाँ भडास पर इस कहावत को कुछ यो कहना होगा की  ---

हम कुछ भाडासियो की सोच है अच्छी ,
बाकि सारे लोगो की सोच है कच्ची ,
यदि कोई हमारीगलत  बात नहीं मानेगा ,
मिल कर हम सभी करेगे उस की हर बातमे माथा पच्ची  ,
या तो वो  यहाँ से भाग जाये ,
वरना हम सब मिल कर उसे सताए ,
जब तक ना  मिले हमारे सुर मे उस का सुर ,
हम सब एक ही राग आलापे की तुम हो बेसुरे असुर  ,
यही बनता  जा रहा है भडास का दर्शन ,
वरना  हर सही बात के लिए करना पड़ेगा ,
अमित और परवीन को घर्षण  ही घर्षण
५) @डॉ.रूपेश श्रीवास्तव
एम.डी.,
पी.एच.डी.(शास्त्रोक्त आयुर्वेदिक औषधियों का परिरक्षण),
औषधीय परिरक्षण में चुम्बकीय ध्रुवों की भूमिका पर शोधपत्र,
कई सौ चिकित्सकीय आलेखों की प्रस्तुति/प्रकाशन,
जीर्ण वातव्याधियों में स्वरक्तपान पर शोधपत्र,
बायोलॉजिकल ट्रान्सम्यूटेशन पर शोधपत्र,
BLAH...BLAH... मैंने ये किया मैंने वो किया... बक बक...बक बक....
पत्रकारिता स्नातक
भड़ास का संचालक
डॉ साहब इन सब का यहाँ लिखने से क्या तात्पर्य है , !)की आप यहाँ सबसे ज्यादा विद्वान व्यक्ति है और विद्वान व्यक्ति कभी कोई गलती नहीं करता ,
२)अब आपसभी से उन की qualification  की जाच करेगे ?
३)या भड़ास अब अपनी अपनी विद्वता पर्दर्शित करने का अखाडा  बनने को अग्रसर है
४) या आप ये सब लिख  कर परवीन साह या मुझ दबाव बनना चाहते है , एक और डॉ साहब मै यहाँ सिर्फ और सिर्फ विशुद्ध मनोरंजन और मित्रता के लिए आता हू , की यहाँ पर विचारों का आदान प्रदान होने से कोई नई बात की जन्ल्कारी मिल सकती है
आपने बड़ी ही सफाई से कह दिया की मुझे अर्थात डॉ रूपेश श्रीवास्तव (एम.डी.,
पी.एच.डी.(शास्त्रोक्त आयुर्वेदिक औषधियों का परिरक्षण),
औषधीय परिरक्षण में चुम्बकीय ध्रुवों की भूमिका पर शोधपत्र,
कई सौ चिकित्सकीय आलेखों की प्रस्तुति/प्रकाशन,
जीर्ण वातव्याधियों में स्वरक्तपान पर शोधपत्र,
बायोलॉजिकल ट्रान्सम्यूटेशन पर शोधपत्र,
BLAH...BLAH... मैंने ये किया मैंने वो किया... बक बक...बक बक....
पत्रकारिता स्नातक
भड़ास का संचालक)को कोई बेवखुफ़ नहीं बना सकता ,आप अपने बड्डपन को अपने पास रखिये और यहाँ इस मंच पर मै मानता हू की कोई किसी से कम नहीं है , चाहे वो कोई गली मे परचून की छोटी सी दुकान चलने वाला हो या आप जैसा डॉ सब अपने अपने काम मे माहिर है

5 टिप्पणियाँ:

अनोप मंडल ने कहा…

१.खुद स्वीकारते हो कि भड़ास पर कोई किसी से कम नहीं लेकिन आत्मन मुनेन्द्र भाई और शम्स भाईसाहब को कुत्ता, बंदर, बिल्ली बता कर क्या जताना चाहते हो?
२.परम आदरणीय अवतारस्वरूप डॉ.रूपेश श्रीवास्तव जी की विद्वता की तुम बराबरी कर भी नहीं सकते।
३.तुम बताते क्यों नहीं कि वीडियो की जाँच कैसे करवाओगे क्या शर्मिन्दगी हो रही है या कोई और कारण है|

४.भड़ास कोई मित्रता क्लब या मनोरंजन क्लब नहीं है।
५.तुमने ब्लॉगर की जो सेटिंग का राग अलापा है उसमें तुम डॉ.रूपेश और रजनीश झा साहब जैसे लोगों को नहीं भ्रमित कर सकते।
६.मुंबई कब आओगे????

जय नकलंक देव
जय जय भड़ास

अमित जैन (जोक्पीडिया ) ने कहा…

१) अगर वो मुझे कमीना ,नीच ,राक्षस ,कुटिलकहने का कार्य कर सकते है तो बिल्ली ,बन्दर ,गधा तो फिर भी उन के लिए सम्मानजनक है
२) मैंने की भी नहीं
३) तुम उस विडियो को यहाँ पोस्ट क्यों नहीं कर देते ,या तुम्हे अपनी करतूत पर शर्म आ रही है , या कोई और कारण है
4) तो भडास है क्या शत्रुता क्लब या तुम जैसे वाहियात लोगो के लिए popularity gain club
५)ब्लॉगर की सेटिंग तुम्हारे कहने से गलत नहीं हो जायेगी
६) इतने प्यार से बुला रहे हो ,जब भी मोका लगेगा कम से कम आप लोगो से जरुर मिलुगा ...:)

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

हरगिज़ नहीं....
भड़ास के इक्यानबे सदस्यों में से एक भी हम संचालकों को बेवकूफ़ नहीं बना सकता। इस समय और कभी भी भड़ास पर दो अमित जैन नहीं थे और न ही अब हैं।
जय जय भड़ास

sanjay ने कहा…

आदरणीय गूरू डा.साहब का बड़प्पन तो ये है कि तुझ जैसे चिरकुट को सब समझ कर भी सुधरने के मौके दे रहे हैं लेकिन तेरा नीचपन कम नहीं हो रहा बल्कि बढ़ता जा रहा है। इससे पहले तू संचालक पर नकली प्रोफ़ाइल बनाने का आरोप लगा चुका है। उसे तेरा वकील सिद्ध करेगा या तू किसी दूसरे राक्षस को लाएगा या कुमारी शालू जैन को बुलाएगा?
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP