महाराष्ट्र सरकार अधिक झोपड़पट्टी बनाकर उनमें कुत्ते पालेगी

मंगलवार, 24 फ़रवरी 2009

झोपड़पट्टी के कुत्ते की गरीबी और उसकी परेशानियों को केन्द्र बिन्दु बना कर जो फिल्म बनाई गई है उसकी अपार सफ़लता हर ओर दिख रही है।
उनका क्या करेंगे जो अपनी गरीबी का नंगा तमाशा फिल्म में चित्रित करे जाने का उत्सव मना रहे हैं धारावी में?????अगर ऐसा ही रहा तो महाराष्ट्र सरकार मुंबई में दस-बारह ऐसी ही धारावी जैसे विशाल झोपड़पट्टियां और कमाठीपुरा जैसे रेडलाइट एरियाज़ बनाने पर विचार करने लगेगी आखिर इनसे विदेशी फिल्म निर्माताओं को प्रेरणा जो मिलती है और फिर आस्कर एवार्ड भी मिलता है।

3 टिप्पणियाँ:

Manoj dwivedi ने कहा…

Guruji sahi likha hai apne ye bina puchh wale KUTTE kuchh bhi kar sakte hain.

ज़ैनब शेख ने कहा…

क्या बात है डा.साहब बड़ी जोर से रगेदा है कमबख्तों को....
जय जय भड़ास

फ़रहीन नाज़ ने कहा…

गुरू एकदम कस कर उल्टी करी है सारे के सारे बस इसी बात का त्योहार मनाए पड़े हैं कि हमारी गरीबी के चित्रण को कितने अच्छॆ तरीके से जगजाहिर करा गया है गटर के कीड़े खुशियां मना रहे हैं अपने लिजलिजेपन की......
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP