"भड़ास" को 'भड़ास blog' क्यों बनाना पड़ा यशवंत सिंह को....????

बुधवार, 4 मार्च 2009

कल मुझे पता चला कि लोगों को भड़ास के दो फाड़ होने की जानकारी ही नहीं है , हिंदी ब्लाग जगत के पाठक व स्वयं ब्लागर्स भी बस अपनी अपनी पेले रहने में ही लगे रहते हैं और रही बात टिप्पणीकारों की तो डा.सुभाष भदौरिया के शब्दों में इन टिप्पणीकारों गिरोह हैं जो अधिकतर जगहों पर एक-दो लाइन लिख कर खुद को अति सक्रिय बताते-जताते रहते हैं ताकि अपना अस्तित्त्व बनाए रख सकें। दुनिया के सबसे बड़े हिंदी ब्लाग होने का दावा करने वाले ब्लाग "भड़ास" से जब यशवंत सिंह की कुटिलताओं को न स्वीकारने के कारण जब डा.रूपेश श्रीवास्तव ने विरोध जताया तो तकनीकी तानाशाही से उन्हें व उनसे सहमत सारे लोगों को हटा दिया गया। कोई चर्चा नहीं करी गयी और न ही किसी ने कुछ चूं-चां करी। डा.रुपेश श्रीवास्तव के बारे में तमाम लोग जानते हैं चाहे वो कभी खुल कर लिख न सकें जैसे कि अनिल रघुराज(हिंदुस्तानी की डायरी नामक ब्लाग वाले), बोधिसत्व(विनय पत्रिका ब्लाग वाले),अभय तिवारी(निर्मल आनंद ब्लाग वाले)........। एक दिन अचानक "भड़ास" का नाम 'भड़ास blog' रखना पड़ा और blog शब्द लगा कर जताना पड़ा कि इसे ब्लाग ही समझो, ऐसा क्यों हुआ? सीधी बात है डा.रूपेश श्रीवास्तव ने "भड़ास" के मूल दर्शन के आधार पर स्वतंत्र ब्लाग बना लिया जिसका यू.आर.एल. कदाचित भिन्न था लेकिन नाम भड़ास ही था लेकिन आगे चल कर ये समस्या भी हल हो गयी अब तो यू.आर.एल. भी वही और अत्यंत छोटा मिल गया ... bhadas.tk ; अब यशवंत सिंह और डा.रूपेश श्रीवास्तव में जो नजदीकियां थी वो मात्र यशवंत सिंह के मुखौटॆ के कारण थीं बनियागिरी का असली चेहरा सामने आते ही विरोध शुरू हो गया और भड़ास को 'भड़ास blog' बनाना पड़ा क्योंकि भड़ास का मालिक तो कोई और ही था और वो हैं हमारे डा.रूपेश श्रीवास्तव। मुझे यकीन है कि अधिकांश भड़ासियों को ये बात पता ही नहीं है।
जय जय भड़ास

4 टिप्पणियाँ:

mayur ने कहा…

jankari hai par thodi late hai,vaise aap bhadas nikal rahe hain ya piche pade hain.

jai jai bhadas

aise man kaise halka hoga bhai

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

मयूर जी इन बातों को अगर इतनी सरलता से छोड़ दिया जाए तो फिर आदर्श और आदर्शवादिता के मुखौटों में अंतर कहां रह जाता है इस लिये पीछे पड़ कर इन जैसे धूर्तों का असली चेहरा सामने लाना एक मुहिम है....
जय जय भड़ास

मुनव्वर सुल्ताना ने कहा…

बस उन नये ब्लागरों को पता नही है जो अनजाने में उसे भड़ास समझ कर जुड़ रहे हैं जबकि वह है बनिया की दुकान। पता सबको है लेकिन इस विषय पर लिखने की किसी में हिम्मत नहीं है...
जय जय भड़ास

राजीव तनेजा ने कहा…

अपुन को भी मालुम नहीं था

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP