महंत (लुप्त होते देहाती शब्दों की नाट्य कविता)

रविवार, 4 अक्तूबर 2009

जाने कऊन महोत्सव में

मदभरी फगुनहट में

ढाक तले आ जुटे अहा! देखो,
कुल-छोटे-बड़े-पदहैसियतानुसार- क्रमबद्ध

खुरदुरे-ठठाते-चुप्पे-चकमे-बदमस्त
बोली कसते भोले-भाले,
हज्जार-पानसो-सौ-पच्चास-बीस-दस-पाँच-दो
और एक के नोट और संग कछु कलदार

फिर आगे बढ़-बढ़ हुई जोहार
कि खिंच गया तभई सन्नाटा
आये थे सभी बनने महंत
झटपट हुआ आरम्भ तब बिरता परदरसन;
सर्वप्रथम मौन तोड़ता अरे...रे..रे..रे...रे..देखो,
उठा वह पलीद पचासा,"बार गरल पर मैं लुटा था,
चोलिया में भी एक बार ठुँसा था,मुझे बनाओ महंत
मिलेगा सबो को परमानन्द.....।"
(भीड़) "अये...हय...हा..हा...हा...अ...हा...हा..वा..ह..ह...."
कि झट खड़े हुए उखड़े केसरिये कलदार
"महंत बनबे का हमार नैतिक अधिकार

भगाओ इसे हियन से फैला रहा बेभिचार....।"
",अरे.....रे....रे....रे...ऊ....आक...थू..."बलगम थूकता
उठा पिलास्टर बांधे भदरंगा पाँच ,
"बनाओ मुझे महंत मेरी है चलती की बेरी
कर दो मेरी बस अंतिम इच्छा पूरी ....।"
"च्च... च्च...च्च...च...बैठ जाओ चच्चा....."
बोला बीड़ी फूँकता अधेला

"हाँ....हाँ....." सीड़ निकालती बोली
लुप्तप्राय–भूली बिसरी चौअन्नी
के तभी उठा लड़खड़ाता–सकसकाता
संझवाती जलाती गंवई स्त्री के हाथोँ मे दबा

सप्ताह भर की सब्जी के लिये बना
वह भकुआ दस का नोट
जाने क्या बोला क्या बुदबुदाया
कि तभी कूद पड़ा वह जूँमुहाँ युवा बीस
जबरन निपोरते खीस , हुलसकर बोला,
"बच्चों का हूँ मैं यार आती मुझसे
डेरी मिलक दो पीलीज़ मुझे मुखिया बना दो.....।
" (भीड़)"हो...हो...हो...हो...टूँ...टूँ...खी...खी...खी...."
सूखे पात फेंक उसे भगाया,
अब की उठा इंगरेजी बूकता हज्जार

सबों को निबेरता महंत का मजबूत दावेदार
अ...ह...ह...ह...चेहरे पर नेतई मुस्कान
क्या ठसक वाह-वाह क्या टिमाक

सगलगी करते संग उसके पानसो और बुर्जवा सौ
नजरों से छानकर थानक पूछा,
"अरे कहाँ गये वे नोट एक और दो....?"
यकायक गह्वर-सी चुप्पी तोड़्ते
उठ खड़े हुए वे बामन नोट

राह खड़ी भीड़ चीरकर चल पड़े हौले-हौले
मंच की ओर, रूँधी आवाज से बोले,
"हमसे (ओहो..) होती (अच्छा...) बोटों की
बारिस (खी...खी...खी...) बनती हमऊ से (महजी नमस्ते॥) सरकार क..क्योंकि

हम॥म।से मिलता रासन का एक किलो
घुना-गेंहू-लाल, भरते इसी से एक समय का पेट
बनाइये हमें ..महंत..हम..म..म....................."
छा गई निस्तब्धता, थम गई पुरवाई

था केवल पत्तों का मर्मर
कि तभी ताव खाए पानसौ को रोककर
पूछ बैठा हज्जार चौंककर,
"ऐं...??...??...एक किलो घुना गेंहू वह भी लाल...

वाह-वाह सरकारी ढोरों का क्या खूब है कमाल...।"
फिर भर आई आंखें पोंछ्के

ले हाथों मे चुटकी भर गुलाल और टेसू की शाल,
"धन्य हो दद्दा सच्च में तुमहई हो महंत के काबिल
एक बेर का ही सही देते तो हो नया जीवन........।"

(भीड़) "हाँ....हाँ.....हाँ सच है ऐं ही है मुखिया के काबिल हो...हो हो.."।
और बज उठे दमामे–घन्ट–घड़ियाल होने लगी
जै जकार; बहने लगी फिर से मद भरी बयार
सर्र....र्र....र्र....र्र....सर्र....र्र....र्र....र्र....साएँ....साएँ....।

प्रण्व सक्सेना "अमित्रघात"
Amitraghat.blogspot.com

1 टिप्पणियाँ:

Aftab ने कहा…

बेहतरीन!!!!
प्रणव भाई, गांव की मिट्टी की सुगंध याद आ गयी जिसमें जगह जगह पान खाकर थूके हुए अलबेले डिजाइन अनायास दिख जाते हैं। मिट्टी की रंगत और पान के पीक का क्या गजब काम्बीनेशन होता है...
आप ऐसे ही लिखते रहें, हमहूं आपन गांव याद कर लेइत थई....
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP