हरकीरत "हक़ीर" कब से "हीर" बन गयी हैं हमें पता ही न चला

बुधवार, 9 दिसंबर 2009

आजकल हरकीरत जी "हीर" बन गयी हैं

देखिये मात्र कुछ महीनों पहले ये "हक़ीर" हुआ करती थीं

चमत्कार हो गया हरकीरत "हक़ीर" कब से "हीर" बन गयी हैं हमें पता ही न चला कि कल तक जो हक़ीर हुआ करती थीं आज वे किसी रांझे की हीर बन चुकी हैं। ये ब्लागिंग भी कमाल की चीज है मुझ ज़ैनब को लैला बना दे क्या भरोसा या बड़े भाई डा.रूपेश श्रीवास्तव को रोमियो बना दे क्या ऐसी भी तासीर है इसमें?? इतने दिनों से कुछ लिख न पायी थी आज मन करा कि पुराना कबाड़ टटोलूं क्योंकि मुंबई की हालिया ब्लागर मीट में मैं भी न जा सकी थी, शहर से बाहर थी। हरकीरत जी को मुबारक हो ये रूमानी बदलाव लेकिन पता नहीं क्यों बड़े भाई डा.साहब पर दया आ रही है कि जब इन जैसी दर्द दर्द चिल्लाने वाली किसी की हीर बन सकती है तो आप इतने समय से लोगों के दुःख दर्द बांट रहे हो, इसी रास्ते चुपके से मजनूं, रोमियो जैसे कुछ क्यों न बन पाए?
जय जय भड़ास

4 टिप्पणियाँ:

मुनव्वर सुल्ताना ने कहा…

कल तक जो थीं "हक़ीर" आज "हीर" बन गई.
बासी कढ़ी ब्लागिंग की कड़ाही में खीर बन गई.

अब कौन कहेगा कि ये कविता मैंने हरकीरत हकीर की लिखी हुई चुराई है :)
ये मेरी पूरी तरह से मौलिक कविता है लेकिन इसे मैं उर्दू में तर्जुमा नहीं करूंगी ये हिंदी में ही अच्छी लग रही है।
जय जय भड़ास

फ़रहीन नाज़ ने कहा…

अरे दइया.... इस १९५० की हीर का रांझा कौन है अगर किसी को पता हो तो जल्दी से बताओ ताकि उस रांझे के भी दर्शन कर सकें :)
जय जय भड़ास

अविनाश वाचस्पति ने कहा…

फरहीन बिटिया
रांझा तो कोई भी हो सकता है
अब उम्र का नहीं चलता कहीं जोर है
शोर मचा हुआ अब ये चारों ओर है।

मुनेन्द्र सोनी ने कहा…

ये वही दर्द की दुकान की सेल्सगर्ल है न जिसने मुनव्वर आपा पर चोरी का आरोप लगाया था? अब हीर बन गयी है तो देखियेगा कुछ ठरकी हिंदी ब्लागर रांझा,मजनू और रोमियो बने मिल ही जाएंगे ऐसे लोगों की हिंदी ब्लागरों में कमी नहीं है खास तौर पर जिनके मुंह में दांत नहीं पेट में आंत नहीं....
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP