पईचान कोन???

शनिवार, 28 मई 2011

मेरा भड़ासी दोस्त, कद्दावर शख्सियत, कुशाग्र बुद्धि, सुदर्शन व्यक्तित्व का धनी, मुस्कराता चेहरा, सिद्धान्तों के लिये अड़ियल होने की हद तक आग्रही......

अनुमान लगाइये कि अब तक छिपा रहा ये बंदा मुंबई का कौन सा भड़ासी है जिसने भड़ास पर तमाम लोगों को डंडा कर रखा था

जय जय भड़ास

7 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

भाई अजय जी, ये गलत बात है यार आप दोनो मिल भी लिये और हमें बताया तक नहीं। मैं खोपोली में हूं इन हज़रत को जरा रोक कर रखिये मैं कल तक आ जाउंगा। जाने मत देना बांध कर रख लो...
अब तक छिप कर इन्होंने कितनों को परेशान कर रखा था यार मुंबई कम से कम भड़ासियों के लिये तो एकदम छोटा शहर है।
जय जय भड़ास

प्रवीण शाह ने कहा…

.
.
.
अंदाज ही लगा सकता हूँ कहीं प्रिय संजय तो नहीं ;)





...

मुनव्वर सुल्ताना Munawwar Sultana منور سلطانہ ने कहा…

अजय भाई ये हज़रत तो अपना फोन नंबर तक देने में दुनिया भर की आनाकानी कर रहे थे आप लोगों ने क्या जादू करा कि खुल कर सामने आ गये?वैसे अच्छा लगा कि मुंबई में मेरा एक और भड़ासी भाई जुड़ गया है जो सच को सच और झूठ को झूठ कहने से नहीं डरता।
मैं इनकी धारदार लेखनी की कायल हूं। अब मुलाकातें तो डॉक्टर साहब के घर पर होती रहेंगी जैसे हमारी भड़ास-सभाएं होती ही र्हैं।
जल्द ही आप सबके सामने अनूप मंडल के कुछ सदस्यों की तस्वीरें दिखाऊंगी उन्होंने मुझे जगतहितकारिणी की उर्दू प्रति भेंट करी है, अब तक पढ़ नहीं पायी लेकिन जल्द ही शुरू करूंगी। वो सब भी बड़े प्यारे, तार्किक और ईमानदार लोग हैं।
@ प्रवीण शाह
भाई संजय आपको प्रिय कबसे लगने लगा। डा.साहब ने जो लिखा वो आपने समाप्ति मान ली क्या??
जय जय भड़ास

अनोप मंडल ने कहा…

shams bhai hain kya?

दीनबन्धु ने कहा…

शम्स तबरेज़ और संजय कटारनवरे ही हैं जिन्हें मैने अब तक मुंबई में आमने-सामने नहीं देखा है। वैसे लिखते तो दोनो ही लोग एकदम फाड़ू हैं। जैसे ही ये तस्वीर आयी तो अमित जैन ने आपने चूतियापे भरे अंदाज में साइन इन करके एक चिरकुट सी बेनामी टिप्पणी कर दी। इस बेवकूफ़ की सब इतनी ले रहे हैं फिर भी ये बेनामी गधेपन से बाज नहीं आता। भाई अजय जी ये शम्स हों या संजय इनका व्यक्तित्व है तो सचमुच शानदार...
बेचारे विरोधियों के पिछवाड़े अलाव सुलगने लगा आपकी दी हुई इस फोटो से ;)
जय जय भड़ास

दीनबन्धु ने कहा…

अच्छा करा बेनामी टिप्पणी हटा कर

अमित जैन (जोक्पीडिया ) ने कहा…

दीनबंधु पगला गया है

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP